Google+ Followers

Monday, September 18, 2017

अब उम्र होने लगी है

आने लगी है उम्र की निशानियाँ धीरे-धीरे
खूबसूरती के पैमाने बदलते जा रहे धीरे-धीरे
कल तक सिर्फ पोशाक को जाँचती निगाहें
अब सिर्फ ख़यालात और संस्कार देखने लगी है
क्या सच में अब उम्र होने लगी है?

चित्र- गूगल आभार 
आम के पेड़ों पर मंजरों का मंजर
छोटे छोटे टिकोले देखो लगते कितने सुंदर
आज पत्थर मारने से क्यूँ कतराने लगी हैं
आज क्यूँ पके आमों की बाट जोहने लगी है
क्या सच में अब उम्र होने लगी है?

शोर-शराबा पसन्द था मुझे
अठखेलियाँ करना अधिकार था मेरा
शैतानियाँ!शायद ही किसी को छोड़ा
पर आज क्यूँ अपनी बच्ची को टोकने लगी है
क्या सच में उम्र होने लगी है?

रोष समझदारी में,और गुस्सा धैर्य में बदल गया
इक्षाएँ दबीं,मैंने विचारों में बल दिया
बड़ी जल्दी दोस्ती हो जाती थी लोगों से कभी
क्यूँ अपनी औकात फिर लोगों को टटोलने लगी हैं
क्या सच में अब उम्र होने लगी है?

चीज़ों को पसन्द करते हैं लोग
मैं लोगों को पसंद करती हूँ
उम्र के तवज़्ज़ो ने दिए हैं ये झुर्रियां
उसी तवज्जो के बिनाह ये सच्चे रिश्ते जोड़ने लगी है
हाँ,सच में अब उम्र होने लगी है।

आज जो मैं थक गई थी
बेटी ने प्यार से कहा छोड़ दो तुम
माँ,मैं हूँ न कर देती हूँ
पता है वो बड़ी होने लगी है
और मैं खुश हूँ,अब उम्र होने लगी है।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

चर्चे तेरे ही होंगे,ये कोई और नहीं

इश्क़ ऐसा हुआ कि मैं खो गया
लोगों ने ढूँढा पर मिला नहीं
चित्र- गूगल आभार 
इश्क़ की चाशनी को तेरे लबों से उठाया
मिठास ऐसी की अब तक घुला नहीं
तूने नाक पर नथुनी को सजा ऐसे दिया
चाँद को खुले आसमान में जैसे देखा नहीं
ये जो आँखों के तले जो काजल तूने लगाया
अँधेरे में ऐसा डूबा की उठा नहीं
तेरी चूड़ियों की खनक से एहसास यूँ हो आया
कि इस शहर को शोर चाइए खामोशी नहीं
छोड़ दो कुछ माँगना खुदा से,न करो वक़्त जाया
हम तो इसी में लगे हैं,क्या इस से वाकिफ नहीं
ये जो सुगबुगाहट है शहर में,ये कौन आया
चर्चे तेरे ही होंगे,ये कोई और नहीं
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Saturday, September 9, 2017

मेरी आँखें पढ़ माँ बोल देती है

लाख गुजर जाए उस पर,पर वो छोड़ देती है
मैं कितना भी छुपाऊँ,मेरी आँखें पढ़ माँ बोल देती है।
चित्र-गूगल आभार
उसकी सिसकियों को लोग उसकी कमज़ोरी समझते हैं
वो तोड़ती है खुदको,पर मुझे जोड़ देती है।
तुमने तिनके उठाते तो देखा होगा चिड़ियाँ को
माँ वो है जो तिनकों से घर को जोड़ देती है।
मेरे जरा सी मेहनत पर मुझे गुरुर सा आ गया
वो तो रोज़ करती है,हँसकर छोड़ देती है।
कोई अच्छा कहेगा,कोई बुरा कहेगा,फिक्र नहीं
मैं क्या हूँ,नज़रें टटोल माँ बोल देती है।
बचपना उसमें भी होगा जरूर कहीं
जाने क्यूँ मुझ पर वो सब उड़ेल देती है।
ज़िद तो उसमें भी होगी शायद,मैं जो रुकने कहूँ
वो मानती नहीं,पहला निवाला मुँह में छोड़ जाती है।
मैंने करवटे बदले हैं घंटों मलमल के बिस्तरों पर
गोद पर सिर रखूँ,और वो एक थपकी,नींद आ ही जाती है।
आज मैं जो कुछ भी हूँ,उसी की रेहम है
सब खुदा की ख्वाईश है,जाने क्यूँ माँ बोल देती है।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Tuesday, August 22, 2017

खर्राटे


सुनने में जितना भी अजीब लगे पर हाँ ये कविता खर्राटों पर है/खर्राटे जो आप भी लेते हैं हम भी लेते हैं/हाँ पर जब खर्राटों की ध्वनि जब चाहकर अनसुनी न रह जाये यानि की शोर प्रचंड हो तो वो व्यक्ति रोगी कहलाता है और उसके बगल वाला भुक्तभोगी /ऐसी स्तिथि में आप भी कभी न कभी जरूर रहे होंगे.................

प्रकाळ है प्रचंड है
जो छेड़ता मुझको सदा
अजब सा ये द्वन्द है
जिसने उडा दिया नींदों को मेरी
ख्याति जिसकी आबाद है
चित्र-गूगल आभार 
वो कोई मेरी प्रियतमा नहीं
बल्कि तेरी नाक का शंखनाद है
मैं खुश हूँ तेरे बात पर
सृष्टि के इस आधार पर
बस एक पीड़ा रही
कौन रात छोड़ जाता
ढोल तेरे नाक पर
धडम-धडम करता है जो
रात तांडव मैं करता अहो
चीर तेरी नींद को
अरे! देखो जरा इस दीन को
बिन नींद आँखें लाल हैं
तुझे आभास क्या मेरा हाल है
लोग पूछते मुझसे सदा
ये हाल तूने क्या रखा
कैसे बताऊँ दुख की घड़ी
मेरी नींद पर जो आ पड़ी
न जगता हुँ,न सोता हूँ मैं
बस रात भर रोता हूँ मैं
देख मेरा घोर क्रन्दन
शान्त हो,लोग करते वन्दन
नज़र मेरी रुई पर पड़ी
कानों में ठूँस ले निशाचरी
फिर नींद मीठी आएगी
भले,ढोल तान तीखी गाएगी।
©युगेश


Rate this posting:
{[['']]}

Friday, August 18, 2017

अब कहने को रह ही क्या गया था दरमियाँ

PK फिल्म का एक dialogue आपसे साझा करता हूँ;जब PK अपने ग्रह वापस जा रहा होता है और Jaggu को एहसास होता है की PK के दिल में क्या चल रहा है...............
"उसने एक बार भी पलट कर नहीं देखा/शायद अपने आँशु छुपा रहा था/कुछ सिख के गया बहुत कुछ सिखा के गया/झूठ बोलना सिख  कर गया और सिखा कर गया प्यार शब्द का सही मतलब/He loved me enough to let me go."
एक साधारण सा dialogue  जो अनसुना सा रह गया/पर गौर की जाए तो सच्चाई भी कितनी है/सच्चा प्यार  बस पाना नहीं होता बल्कि दूसरे की ख़ुशी के लिए वो एक चीज़ जो आपको बहुत अज़ीज है उसका खोना भी होता है.........

अब कहने को रह ही क्या गया था दरमियाँ
तुमने नज़रें जो झुका दी,लो मैं जान गया।
चित्र-गूगल आभार 
ये जो वस्ल की बातें हैं और अब मैं काफ़िर हूँ
कभी जो मोहब्बत से झुकी थी नज़रें,लो मैं जान गया।
तू मुझको अज़ीज थी,वो तुझको अज़ीज था
जो जरा सा इशारा हुआ,लो मैं जान गया।
मोहब्बत न नाचीज़ तेरी थी न नाचीज़ मेरी थी
ये जो शोरगुल क्या हुआ,लो मैं जान गया।
जिसे चाहो उसे पा जाना ही मोहब्बत नहीं
कभी खुशी के लिए छोड़ देना,लो मैं जान गया।
टूट जाऊँगा तुझे खोकर,ये बेकार की सोच है
टूट कर तुझे चाहा है और जीना,लो मैं जान गया।
माना कि किस्से मशहुर हैं हीर और राँझा के,हीर की एक मुश्कान को
किसी ने अपने अंदर के राँझा को भी दबाया होगा,लो मैं जान गया।
मोहब्बत न सही पर दोस्ती क्यूँ नहीं,ज़िन्दगी तो यूँ ही चलेगी
तू भी जान ले,मैं तो जान गया।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

मैं जोड़ लूंगा,छोड़ दे

ये तिलिस्म अपना तोड़ दे
क्या कर सकेगा छोड़ दे
ये रूह टूटी ही सही
मैं जोड़ लूंगा,छोड़ दे।

मैं कर्ण सा बलवान हूँ
बिखरा हुआ पर अभिमान हूँ
चित्र-गूगल आभार 
जिसने दे दिए कवच और कुंडल
बिखरा सही पर दयावान हूँ।

हुंकार की आधार पर
तेरे खोकले अहँकार पर
जा ढूँढ़ ले डरते हैं जो
मैं जीता अपने अभिमान पर।

ये लोक नीति ही नहीं
ये शोक नीति ही नहीं
जा पूछ ले जिससे भी हो
विनती किसी से की नहीं।

उपकार के उस हर्ज पर
रख हाँथ मेरे नब्ज़ पर
उभरूँगा फिर तू देख ले
समुद्र-मंथन के तर्ज पर।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Wednesday, August 2, 2017

मैं चिराग हूँ बुझता हुआ ही सही,मगर याद रहे

मैं चिराग हूँ बुझता हुआ ही सही,मगर याद रहे
तुम्हारे दिल-e-मकान को रौशन,हमने ही किया था।
 चित्र-गूगल आभार 
ये किसी और से तिश्नगी जायज़ है तुम्हारी,मगर याद रहे
मोहब्बत से रूबरू हमने ही किया था।
चली जाओ किसी गैर की बाहों में गम नहीं, मगर याद रहे
तेरे दिल की आवाज़ को धड़कन,हमने ही दिया था।
तुम आज भी बारिश में जरूर भीगती होगी,मगर याद रहे
तुम्हारे बदन पर उन बूँदों का एहसास,हमने ही दिया था।
तुम तो यूँ ही नादान सी निकल जाती थी उस गली में,मगर याद रहे
उस पायल की मीठी झनक को महसूस,हमने ही किया था।
आज जो ये दूरियाँ हैं,बंदिशें ही सही,जो भी हो,मगर याद रहे
कुछ दर्द हमने लिया था,कुछ दर्द तुमने दिया था।
आज जो पहुँचा हूँ इस मक़ाम पर,खुश हूँ,मगर याद रहे
समेट रहा हूँ खुद को,थोड़ा टूटा था,बिखेर तुमने दिया था।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}