Google+ Followers

Sunday, May 20, 2018

सवाल कुछ यूँ भी हैं जिंदगानी में

सवाल कुछ यूँ भी हैं जिंदगानी में
कि अश्क हैं भी और गिरते भी नहीं।
चित्र-गूगल आभार 
शरीर टूटता है उन कामगार बच्चों का
एक आत्मा थी जो टूटी है पर टूटती भी नहीं।
उस बच्ची का पुराना खिलौना
आज मैंने कचरा चुनने वाली बच्ची के पास देखा
पता है खिलौना टूटा है,पर इतना टूटा भी नहीं।
ठगे जाते हैं लोग अक्सर सत्ता-धारियों से
बौखलाहट है,पर शायद उतनी भी नहीं।
बड़ा आसान देखा है मैंने आरोप लगाना
कमिया कुछ मुझमें भी होंगी,गलती बस उसी की नहीं।
पिता को मैंने हमेशा थोड़ा कठोर सा देखा है
कभी जो अंदर झाँक के देखा,शायद इतने भी नहीं।
गुबार है गर दिल में तो निकल जाने दो
दर्द जो होगा तो एक बार होगा,पर उतना भी नहीं।
किसी की कामयाबी देखकर घबरा न जाना
जुनून को सुकून चाहिए,पर उतना भी नहीं।
भला जरूर करना लोगों का,बस खुश करने की कोशिश नहीं
दोस्त जरूर चाहिए सबको,पर उतने भी नहीं।
फकत दिल का रोना भी कोई रोना है यारों
गम और भी हैं ज़िंदगानी में,कम्बख्त बस यही तो नहीं।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Tuesday, May 8, 2018

अहं

धृतराष्ट्र आँखों से अंधा
पुत्र दुर्योधन अहं से अंधा था
उसकी नज़रों से देखा केशव ने
चित्र- गूगल आभार 
चारों ओर मैं ही मैं था।

जब भीम बड़े बलशाली से
बूढ़े वानर की पूँछ न उठ पाई
बड़ी सरलता से प्रभु ने
अहं को राह तब दिखलाई।

जैसे सुख और माया में
धूमिल होती एक रेखा है
वैसे मनुज और मंज़िल के बीच
मैंने अहं को आते देखा है।

जितनी जल्दी ये ज़िद छुटे
अहंकार का कार्य रहे,अहं छुटे
मनुज को भान स्वयं का होता है
सूर्य वही उदय तब होता है।
©युगेश

Rate this posting:
{[['']]}

Thursday, April 19, 2018

सिसकी

सिसकी जो निकली तो जान निकल गयी
हैरत तो तब हुई जब बच्ची बच्ची नहीं
हिन्दू और मुसलमान निकल गयी
कठुआ हो या उन्नाव
या कोई और जगह
माँ को तकलीफ तब हुई
जब बच्ची घर से परेशान निकल गयी
कहीं दुबक के बैठी थी वेदना
वेदना का चोला ओढ़े जब
राजनीति बेशुमार निकल गयी
निर्भया के आँसू अभी सूखे नहीं थे
इंसानियत बेसुध पड़ी रही मंदिर में
हैवानियत उससे होकर सरेआम निकल गयी
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Saturday, April 7, 2018

Black buck और भाई

Black buck को धराशायी कर
फिल्हाल भाईजान धराशायी हो गए
कुछ खुश हो गए
तो भाई के fans रूष्ट हो गए
आखिर भाई ने इतनों का भला किया
चित्र- गूगल आभार 
हिरण की आत्मा ने पुकार लगाई
तो साले मैंने किसका बुरा किया
सुना 20 साल हो गए
अब तो उसके पुनर्जन्म की बात होगी
अरे!आपने फिल्में नहीं देखी
उसे इंसाफ मिला नहीं
आत्मा उसकी जरूर भटकती होगी
कुछ बाबाओं से पता चला
वही जो जेलों में बंद हैं
अंदर हैं तो क्या
अभी भी उनमें काफी दम है
कि आत्मा हिरण की
आजकल जोधपुर जेल के चक्कर काटती है
डरी सहमी सी है
पता चला आगे अपील भी हो सकती है
और लाकर रखा कहाँ जोधपुर
रिहा होकर आ गए तो
अपना घर तो बगल में ही है
अरे यही राजस्थान
निकल लिए gun लेकर
और गन-गना दिए तब
इससे पहले वो पधारे मारे देश
बिरादरी वालों को मैं बोल दूँ
निकल लो बेटा परदेस।
©युगेश

Rate this posting:
{[['']]}

Monday, March 26, 2018

भगत सिंह

आँखों में खून मेरे चढ़ आया था
शैलाब हृदय में आया था
जब लाशों के चीथड़ों में
जलियावाला बाग़ उजड़ा पाया था।
जब चीख उठी बेबस धरती
सौ कूख लिए हर एक अर्थी
बचपन में बचपना छोड़ आया
मैं इंक़लाब घर ले आया।
बाप-चाचा थे गजब अनूठे
निज घर देशभक्ति अंकुर फूटे
बचपन में ही छोड़ क्रीड़ा
मैं निकला किरपान उठा।
चित्र-गूगल आभार 
अपनों में तलवार जब छूटेगा
सरदार कहाँ चुप बैठेगा
तिल-तिल मरती भारत माता
नास्तिक से और न कोई पूजा जाता।
रक्तपात मुझे कुछ प्रिय न था
शमशीर उठाऊँगा ये निर्दिष्ट न था
जब असहयोग से सहयोग छूटेगा
अहिंसा पर कभी विश्वास तो टूटेगा।
दुनिया ये बिल्कुल नीरस है
आज़ादी से बड़ा क्या परम-सुख है
वो कहते मुझसे शादी को
मैं ब्याह चुका आज़ादी को।
जब एक बूढ़े पर लाठियाँ चल उठी
पता चला अहिंसा तब रूठी
आँखों में अंगार लिए
मैं चला भीषण हाहाकार लिए।
ये हृदय अग्नि तब शिथिल होगी
Scott की छाती में मेरी गोली होगी
एहसास हो जाए फिरंगी को
वक़्त नहीं लगता इमारत ढहने को।
जब निरीह का निर्मम शोषण होता
जब चारों ओर क्रन्दन होता
और हिंसा से जब आँख खुले
धर्म वही सबसे पहले।
आखिर मुझको एहसास हुआ
भगत एक कितना खास हुआ
जब हर गली भगत गर घूमेंगे
अंग्रेज़ भाग देश को छोड़ेंगे।
मन में न था कोई संशय
लाना था मुझको एक प्रलय
संसद में बम जब फूटेगा
आवाज़ देश में गूँजेगा।
जैसे बादल के छंटने पर
सूरज बस तेज़ दमकता है
वैसे बम के धुएँ के हटने पर
इंक़लाब का शोर गरजता है।
जानता था परिणाम क्या होगा
ऐसी मृत्यु से गुमनाम न होगा
जब भगत शहीद कहलायेगा
क्या लोगों में उबाल न आएगा।
अब देख भंवर क्या आएगा
मृत्यु क्या मुझको देहलाएगा
सतलज में फेंका मेरा एक एक टुकड़ा
बनकर निकलेगा एक एक शोला।
भारत माँ से बस ये विनती होगी
कि रंगा रहे मेरा ये बासन्ती चोला।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Saturday, February 17, 2018

कर्ण

रोष मस्तक पर जब रंजीत होता
विश्वास जो छल से खंडित होता
अनल सा तपता जब ये मन
धिक्कारा जाए जब कुन्दन।
जब सूरज का कोप प्रखर होता
जब तोड़ तुझे कोई तर होता
न प्यास बुझाये उस पानी को
कानों को चुभती हर एक वाणी को।
शूरवीरों से वो भरी सभा
चित्र -गूगल आभार 
मछली की आँख न कोई भेद सका
चढ़ा प्रत्यंचा गाण्डीव पर
लक्ष्य चले भेदने उसके कर।
बढ़ गयी सभा की उत्कंठा
बढ़ गयी द्रौपदी की चिन्ता
शर्त स्वयंबर का फिर बदल गया
कर्ण जीत,जाती से तब हार गया।
पूछा मुझसे हस्ती मेरी क्या है
राजकुमारी चाइए,पर राज्य तुम्हारा क्या है
दुर्योधन में मैंने,तब एक मित्र पाया था
वो मेरे हित अंगेश मुकुट तब लाया था।
कहते मुझसे लोग यहाँ
मैंने तो अधर्म का साथ दिया है
लेकिन मुझको बतलाये
इस दानवीर को तब किसने दान दिया है।
धर्म की बातें करने वाले
तब आँख मूंद क्यूँ लेते हैं
कर्ण के अमूल्य कवच और कुण्डल
इंद्र धोखे से माँग जब लेते हैं।
माता के मातृत्व में
मैंने तब जाकर छल पाया
जब अपने बेटों के प्राण माँगने
पहली बार मुझमें पुत्र नजर आया।
धर्म-अधर्म की बातें मुझको
बेईमानी सी लगती है
सबकी अपनी गणना है
थोड़ी मक्कारी सी लगती है।
धर्म कहता है मेरा
मैं निर्णय विचार कर लूँगा
लेकिन जिसने साथ दिया
उस मित्र को विश्वासघात न दूँगा।
इतिहास लिखे जो भी मुझपर
मुझे कोई रोष नहीं है
ये सुत-पूत जो रोए
इतने आँसू शेष नहीं हैं।
जीवन रणक्षेत्र है जिसका
कुरुक्षेत्र बस एक खण्ड है
विचलित न हुआ विपदाओं से
ज्ञात रहे,वो दानवीर कर्ण है।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}

Friday, December 29, 2017

सिपाही साहिबा

#slapfest
आज न्यूज़ देखते समय नज़र टिकी एक न्यूज पर।बहुत ही खास थी।पढ़ा तो पता चला धौंस दिखाने के चक्कर में एक नेत्री को एक सिपाही साहिबा ने दिन में तारों की सैर करवा दी।अच्छा लगा पढ़कर और सिपाही साहिबा की भी तारीफ करने को जी चाहा -


नेत्री जी अड़ गईं
एक तमाचा तपाक जड़ गईं
सोचा सियासत का जोर है
बेचारा!कानून कितना कमजोर है
और ये सिपाही
आखिर सिपाही ही तो है
चित्र-गूगल आभार 
उसके पास तो केवल डंडा है
जो बामुश्किल चलता है
मेरे पास लोकनायिका होने का गौरव है
जो हर जगह अकड़ता है
सिपाही महिला ही थी
देखा जाए तो ये अच्छी बात थी
अगर पुरुष होता तो
शायद,शायद दो राय होती
मीडिया पता नहीं किसकी
मुखातिब होती
Feminism से भैया मुझे
थोड़ा डर सा लगता है
लेकिन lady feminist को सिपाही
के रूप में देख सुकून सा मिला
कोई अड़चन नहीं, कोई बाधा नहीं
और!तपाक एक चांटा नेत्री के गाल पर
आह!लहलहा उठा वातावरण
जैसे को तैसा
शायद न सोचा होता ऐसा
अचम्भा,अद्धभुत,हाय
कानून नहीं इतना असहाय
सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी
आज अब और यहीं घटी।
©युगेश
Rate this posting:
{[['']]}